Breaking News
Home / नेशनल / 3 साल की बच्ची का देहदान, माता-पिता बोले: बेटी का शरीर देश के काम आएगा

3 साल की बच्ची का देहदान, माता-पिता बोले: बेटी का शरीर देश के काम आएगा

जोधपुर एम्स में तीन साल की बच्ची का देहदान किया गया। इतनी कम उम्र में देहदान का यह देश में पहला मामला है। यह देह जोधपुर रोडवेज डिपो में असिस्टेंट मैनेजर उम्मेद सिंह की मासूम बेटी ज्योति की थी। जो जन्म से ही दिल की गंभीर बीमारी से पीड़ित थी। सुबह उसका निधन हो गया।  ज्योति के इलाज के लिए उम्मेद सिंह ने हर संभव प्रयास किए। जोधपुर के अलावा कई शहरों में विशेषज्ञ चिकित्सकों को दिखाया। कोई फायदा नहीं हुआ तो उन्होंने उसे अहमदाबाद ले जाने का फैसला लिया। 3 जून को ज्योति की तबीयत बिगड़ी तो वे उसे जोधपुर एम्स ले आए। यहां डॉक्टर ने उसे कार्डियक अरेस्ट आना बताया। वह एम्स के आईसीयू में वेंटिलेटर पर थी, जहां उसने अंतिम सांस ली।

गोटन निवासी ज्योति के पिता उम्मेद सिंह ने बताया कि हम उसके अहसास को हमेशा जीवित रखना चाहते थे, इसलिए पत्नी राजूकंवर से बात कर हमने उसके अंगदान का फैसला लिया। ताकि किसी और में हम अपने कलेजे के टुकड़े को महसूस कर सकें। डॉक्टर से बात करने पर पता चला कि जोधपुर में अंगदान की सुविधा नहीं है। इससे बेहद निराशा हुई, फिर हमने देहदान का निर्णय लिया, ताकि ज्योति की देह डॉक्टरी कर रहे बच्चों की पढ़ाई के लिए काम आ सके। दिल को सुकून है कि बेटी ज्योति का जीवन देश के काम आएगा।  एम्स एनाटोमी विभाग के सह आचार्य डॉ. आशीष नैय्यर ने बताया कि इतनी कम उम्र में देहदान का यह संभवतया पहला केस है। अब स्टूडेंट्स वयस्कों और बच्चों के शरीर के अंतर को बेहतर जान सकेंगे।

About sub admin

Check Also

Realme करेगा 64MP कैमरे के साथ X2 Pro लॉच

Share on FacebookShare on Twitter Realme अपने स्मार्टफोन X2 Pro को नए और बेस्ट फीचर्स ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares