Home / उत्तराखंड / सीवरेज न होने से गंगा हो रही मैली

सीवरेज न होने से गंगा हो रही मैली

गंगा को निर्मल बनाने के दावे तो लाख हो रहे हैं, लेकिन असलियत यह है कि जिन क्षेत्रों में ड्रेनेज सिस्टम नहीं है, वहां की गंदगी सीधे गंगा में गिर रही है। वर्तमान में लोनिवि, बंगाली बस्ती और सरस्वती नाले को सीवर से जोड़ दिया गया है जबकि साईं घाट, शांतिनगर, सर्वहारा नगर आदि जगहों पर स्थित नालों को सीवर से जोड़ना शेष है। जिन जगहों पर ड्रेनेज सिस्टम नहीं है वहां बरसात के दिनों में सड़क और सीवर का पानी सीधे गंगा में जा रहा है। यह जानकारी नगर आयुक्त सीएस चौहान ने जिलाधिकारी देहरादून को दी। शुक्रवार को जिलाधिकारी देहरादून सी रविशंकर ने तीर्थनगरी मे चल रहे नमामि गंगे और गंगा सुरक्षा के कार्यों की प्रगति पर समीक्षा की। जिलाधिकारी देहरादून ने मुख्य नगर आयुक्त को शीघ्र ड्रेनेज सिस्टम का प्रोजेक्ट तैयार करने के निर्देश दिए। उन्होंने नमामि गंगे के कार्यों सीवर, वेस्ट मेनजमेंट, नाले टेपिंग आदि कार्यों की प्रगति रिपोर्ट जानी। नगर निगम कार्यालय में आयोजित बैठक में नमामि गंगे के प्रोजेक्ट मैनेजर संदीप कश्यप ने जिलाधिकारी को बताया कि वर्तमान मे विस्थापित क्षेत्र लक्कड़घाट में 26 एमएलडी क्षमता का सीवर ट्रीटमेंट प्लांट एसटीपी का निर्माण कार्य जारी है। 126 करोड़ रुपये की लागत से एसटीपी का कार्य किया जाना प्रस्तावित है। इसमें तीन पंपिंग स्टेशन, 15 किलोमीटर लंबी सीवर लाइन और एक 26 एमएलडी का एसटीपी बनाया जाना है। बताया कि वर्तमान में ऋषिकेश के 7260 और मुनिकीरेती के 1077 घर सीवर से जुड़े हैं।

About sub admin

Check Also

उत्तराखंड के सीएम ने किया आपदा प्रभावित क्षेत्रों का दौरा

Share on FacebookShare on Twitter उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने मंगलवार को उत्तरकाशी ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares