Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / बदहाली में जीने को मजबूर हुए ग्रामीण

बदहाली में जीने को मजबूर हुए ग्रामीण

रामपुर के अहमदनगर कल तहसील के टांडा गांव की हालात बेहाल हैं। जहां चलने के  लिए सड़क नहीं है। औऱ ना ही सिर छुपाने के लिए घर हैं। ज्यादातर लोगों के हालात बद से बदतर हैं। रोजी रोटी तो दूर की कौड़ी है। गांव का प्रधान गांव के लोगों से सुविधा के बदले पैसों की मांग करता है।

ग्रामीणों क कहना है कि उनके पास सिर ढकने के लिए पक्की छत औऱ दिवारों तक नहीं है। गावं का प्रधान सुविधाओं के बदले ग्रामीणों से पैसे की मांग करता है औऱ पैसा न मिलने पर कोई सरकारी मद्द भी लेने नहीं देता है। महिलाओं के लिए सबसे ज्यादा समस्या है। जिन पर घर को चलाने की जिम्मेदारी औऱ बच्चों को पालने की जिम्मेदारी होती है। साथ ही जिनके घर में काम करने वाले लोग हैं वो जैसे-तैसे गुजारा कर लेते हैं। लेकिन जिनके घर कोई काम करने वाले लोग नहीं हैं। उन्हें दूसरे लोगों से खाना मिल जाता है।

मुख्य जांच अधिकारी भी यहां पहुंचे थे। उन्हें इस विषय में जानकारी है। लेकिन वे कोई कार्रवाई नहीं कर रहे हैं। सरकार भी इस मामले पर सुध नहीं ले रही है।

About sub admin

Check Also

चंदौली जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक ने किया बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों का दौरा

Share on FacebookShare on Twitter चंदौली जिलाधिकारी नवनीत सिंह चहल व पुलिस अधीक्षक हेमंत कुटियाल ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares